केजरीवाल की मोदी से गुहार – सीएम होकर भी कुछ नहीं कर पा रहा, केंद्रीय मंत्री भी थक गए; ऑक्सीजन प्लांट्स आर्मी के हवाले करें…. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाई लेवल मीटिंग शुरू

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाई लेवल मीटिंग शुरू हो गई है। ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से हाथ तक जोड़ लिए। केजरीवाल ने कहा कि ऑक्सीजन की सप्लाई तो बढ़ा दी, अब इसे दिल्ली तक पहुंचाने की व्यवस्था कराएं। राज्यों में हमारे ट्रक रोक लिए जाते हैं, उन्हें आप एक फोन कर दीजिए। केजरीवाल बोले- मुख्यमंत्री होकर भी कुच नहीं कर पा रहा हूं। त्रासदी हो गई तो हम कभी माफ नहीं कर पाएंगे खुद को।

केजरीवाल ने ऑक्सीजन और वैक्सीन का मुद्दा उठाया
केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से कहा, ‘हम आभारी हैं कि केंद्र सरकार ने दिल्ली का ऑक्सीजन का कोटा बढ़ा दिया है, लेकिन हालात गंभीर हो चुके हैं। हम किसी को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते। हमने केंद्र को मंत्रियों को फोन किए। उन्होंने पहले मदद की, पर अब वो भी थक गए। अगर दिल्ली में ऑक्सीजन की फैक्ट्री नहीं है तो क्या दो करोड़ लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिलेगी। जिन राज्यों में ऑक्सीजन प्लांट हैं, वो दूसरों की ऑक्सीजन रोक सकते हैं। अगर किसी अस्पताल में एक-दो घंटे की ऑक्सीजन बच जाए या ऑक्सीजन रुक जाए और लोगों की मौत की नौबत आ जाए तो मैं फोन उठाकर किससे बात करूं, कोई ट्रक रोक ले तो किससे बात करूं?’

दिल्ली के सीएम ने कहा, ‘हमें लोगों को भरोसा दिलाना होगा कि एक-एक जिंदगी कीमती है। हम दिल्ली के लोगों की तरफ से हाथ जोड़कर अपील कर रहे हैं कि तुरंत कोई कदम नहीं उठाया गया तो दिल्ली में बड़ी त्रासदी हो सकती है। मैं आपका मार्गदर्शन चाहता हूं। सबसे ज्यादा ऑक्सीजन के ट्रक रोके जा रहे हैं। अगर आप उन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को एक फोन लगा दें तो वह बहुत होगा। मैं मुख्यमंत्री होते हुए भी कुछ नहीं कर पा रहा। ईश्वर न करे कि कुछ अनहोनी हो गई, तो हम कभी अपने आप को माफ नहीं कर पाएंगे।’

देशभर के ऑक्सीजन प्लांट को आर्मी के हवाले करें
केजरीवाल ने कहा, ‘एक नेशनल प्लान बनना चाहिए। इसके तहत देश के सभी ऑक्सीजन प्लांट को आर्मी के जरिए सरकार टेकओवर करे। हर ट्रक के साथ आर्मी का एसकॉर्ट व्हीकल रहेगा तो कोई उसे नहीं रोक पाएगा। 100 टन ऑक्सीजन ओडिशा, बंगाल से आनी है। हम कोशिश कर रहे हैं कि उसे दिल्ली लाने के लिए। हो सके तो हमें हवाई जहाज से उपलब्ध कराएं या आपका आइडिया है ऑक्सीजन एक्सप्रेस का, तो उससे से हमें ऑक्सीजन मिले।’ इस पर प्रधानमंत्री ने केजरीवाल को बीच में रोकते हुए कहा कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ऑलरेडी चल रही है।

एक देश में वैक्सीन के दो रेट कैसे?
केजरीवाल ने कहा, ‘वैक्सीन का वन नेशन, वन रेट होना चाहिए। एक ही देश में वैक्सीन के दो रेट कैसे हो सकते हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकार को एक ही रेट पर वैक्सीन मिले। हर जान हमारे लिए कीमती है। हमें यह एहसास हर भारतीय को कराना होगा। सबको दवाई, वैक्सीन और ऑक्सीजन बिना किसी विवाद और रुकावट मिले। कोरोना के खिलाफ एक नेशनल प्लान होगा, तो हम सब मिलकर काम करेंगे।’

सुबह 9 बजे इंटरनल बैठक की
सबसे पहले मोदी ने सुबह 9 बजे एक इंटरनल बैठक की। अब वे उन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात कर रहे हैं, जहां कोरोना के मामले सबसे ज्यादा आ रहे हैं। प्रधानमंत्री की तीसरी बैठक ऑक्सीजन का प्रोडक्शन करने वाले कंपनी मालिकों के साथ होगी। उन्होंने अपना बंगाल दौरा भी रद्द कर दिया है। पहले वे मालदा, मुर्शिदाबाद, बीरभूम और दक्षिण कोलकाता में रैलियों को संबोधित करने वाले थे, लेकिन अब वे चारों रैलियां वर्चुअली करेंगे। स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं ने रैलियों की पूरी तैयारी कर ली थी, लेकिन आखिर वक्त पर रैलियां रद्द कर दी गईं।

ऑक्सीजन के मसले पर 6 हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

ऑक्सीजन के मसले पर देश के 6 हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई चल रही है। इस बीच गृह मंत्रालय ने राज्यों को निर्देश दिए हैं कि ऑक्सीजन सप्लाई वाली गाड़ियों को न रोका जाए। इससे पहले गुरुवार को देश में ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाई लेवल रिव्यू मीटिंग की। इसमें उन्होंने अफसरों को निर्देश दिए कि राज्यों को की जा रही ऑक्सीजन सप्लाई में किसी तरह की रुकावट नहीं आनी चाहिए।

  • chashmaghar